Advertise With Us
Industry

ऑटोमोबाइल सेक्टर के लिए बुरे दिन जारी हैं।

एसएआईएम (सोसाइटी ऑफ इंडियन ऑटोमोबाइल मैन्युफैक्चरर्स) के नवीनतम आंकड़ों के अनुसार, लगातार 11 वें महीने तक अपने नीचे के सर्पिल को जारी रखते हुए सितंबर में यात्री वाहन की बिक्री में 23.69 प्रतिशत की गिरावट आई। रिपोर्ट में कहा गया है कि सितंबर में वाणिज्यिक वाहन की बिक्री 62.11 प्रतिशत रही।

  • यात्री वाहन की बिक्री 2,23,317 इकाई हो गई, जबकि यात्री कार की बिक्री4 प्रतिशत घटकर 131,281 इकाई रह गई ,देश भर के ऑटोमोबाइल डीलरों को त्योहारी धक्का के बावजूद कारों और दोपहिया वाहनों की बिक्री में मंदी का खामियाजा भुगतना पड़ रहा है। कारों के लिए जीएसटी दर में संभावित कटौती पर अनिश्चितता ने भी ग्राहकों को सितंबर के बहुत से डीलरशिप से दूर रखा। सभी प्रमुख कार निर्माता कंपनियों ने सितंबर में उच्च अंकों की गिरावट देखी। मारुति सुजुकी ने 27 प्रतिशत की गिरावट देखी, जबकि कट्टर प्रतिद्वंद्वी हुंडई ने 14.8 प्रतिशत की गिरावट दर्ज की। टाटा मोटर्स 56 फीसदी की भारी गिरावट के साथ निसान 55.6 फीसदी, होंडा 37 फीसदी पर रहा
  • एसएआईएम (सोसाइटी ऑफ इंडियन ऑटोमोबाइल मैन्युफैक्चरर्स) के नवीनतम आंकड़ों के अनुसार, लगातार 11 वें महीने तक अपने नीचे के सर्पिल को जारी रखते हुए सितंबर में यात्री वाहन की बिक्री में69 प्रतिशत की गिरावट आई। रिपोर्ट में कहा गया है कि सितंबर में वाणिज्यिक वाहन की बिक्री 62.11 प्रतिशत रही। यात्री वाहन की बिक्री 2,23,317 इकाई हो गई, जबकि यात्री कार की बिक्री 33.4 प्रतिशत घटकर 131,281 इकाई रह गई।
  • देश भर के ऑटोमोबाइल डीलरों को त्योहारी धक्का के बावजूद कारों और दोपहिया वाहनों की बिक्री में मंदी का खामियाजा भुगतना पड़ रहा है। कारों के लिए जीएसटी दर में संभावित कटौती पर अनिश्चितता ने भी ग्राहकों को सितंबर के बहुत से डीलरशिप से दूर रखा। सभी प्रमुख कार निर्माता कंपनियों ने सितंबर में उच्च अंकों की गिरावट देखी। मारुति सुजुकी ने 27 प्रतिशत की गिरावट देखी, जबकि कट्टर प्रतिद्वंद्वी हुंडई ने8 प्रतिशत की गिरावट दर्ज की। टाटा मोटर्स 56 फीसदी की भारी गिरावट के साथ निसान 55.6 फीसदी, होंडा 37 फीसदी पर रहा

By India Business Story 

  1. देश में पिछले महीने कुल 1,31,281 यात्री कारों की बिक्री हुई थी, जो एक साल पहले इसी अवधि की तुलना में40 प्रतिशत की गिरावट आई थी, जो कि SIAM डेटा दिखाती है।
  • सितंबर में कुल 20,04,932 यात्री, साथ ही वाणिज्यिक वाहनों की बिक्री हुई, जिसमें41 प्रतिशत की गिरावट आई, जबकि उत्पादन 18.29 प्रतिशत घटकर 2,406,640 इकाई रह गया। जिसमें यात्री वाहन, उपयोगिता वाहन, वैन, दोपहिया और तिपहिया वाहन और वाणिज्यिक वाहन शामिल थे।
  • एसआईएएम ने एक प्रेजेंटेशन में कहा कि कार और यूटिलिटी व्हीकल्स सेगमेंट में मंदी की अर्थव्यवस्था, कम कंज्यूमर सेंटीमेंट, प्रमुख बाजारों में बाढ़, ग्रामीण डिमांड में गिरावट और इंश्योरेंस कॉस्ट में बढ़ोतरी का काफी असर पड़ा।
  • SIAM के अध्यक्ष राजन वढेरा ने कहा, “हम सबसे अच्छे और सबसे खराब स्थिति के लिए तैयारी कर रहे हैंसबसे खराब स्थिति में अधिक उत्पादक और नौकरी में कटौती होगी।
  • घरेलू बाजार में दोपहिया वाहनों की बिक्री09 प्रतिशत घटकर सितंबर में 1,656,774 हो गई।एसआईएएम के अनुसार, वाणिज्यिक वाहनों की कुल बिक्रीयात्रियों, माल के हल्के, मध्यम और भारी वाहक सहित – 39.06 प्रतिशत गिरकर 58,419 इकाई हो गई।
  • चालू वित्त वर्ष के पहले छह महीनों में कुल 1,66,45,330 वाहनों का उत्पादन हुआ। इसमें यात्री वाहन, वाणिज्यिक वाहन, दोऔर तिपहिया वाहन, और क्वाड्रीसाइकिल शामिल थे, और एक साल पहले इसी अवधि में32 प्रतिशत की गिरावट दर्ज की गई थी।
  • हालांकि, उपयोगिता वाहनों का निर्यात सितंबर में75 प्रतिशत बढ़कर 13,235 इकाई हो गया। इसके परिणामस्वरूप 61,333 इकाइयों को कुल यात्री वाहन निर्यात में 5.64 प्रतिशत की वृद्धि हुई, SIAM डेटा दिखाया।
  • कार और ऑटो घटक निर्माताओं ने हजारों नौकरियों में कटौती की है और कुछ उत्पादन को रोक दिया है क्योंकि उद्योग व्यापक आर्थिक मंदी के बीच विभिन्न चुनौतियों से जूझ रहा है। सरकार ने विनिर्माण और वृद्धि को बढ़ावा देने के लिए कॉर्पोरेट कर की दर की घोषणा करते हुए पिछले महीने कदम रखा।
  • SIAM ने कहा कि ऑटो उद्योग BS-6 उत्सर्जन मानदंडों के कार्यान्वयन के लिए तैयार हो रहा है। इसने तेल कंपनियों से बीएस -6 ईंधन देश भर में 1 फरवरी से उपलब्ध कराने का आग्रह किया।

Related posts

Jeff Bezos hired a unique car in India

India Business Story

Maruti Suzuki to lock down its plants in Haryana for 2days

India Business Story

E-Waste Becoming Major Problem For India

India Business Story